21 November 2018, mphalchal news

मतदान दलों के द्वितीय चरण के प्रशिक्षण का जायजा लेने पहुँचे कलेक्टर 
ग्वालियर | 
 
     भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित विधि के अनुसार मतदान संपन्न कराएं। मतदान दल आत्मविश्वास के साथ मतदान कराएं। चुनाव में बाधा डालने की जुर्रत कदापि बर्दाश्त न करें, ऐसे लोगों से सख्ती से निपटें। जिला प्रशासन और पुलिस उनके सहयोग के लिए हर समय तत्पर रहेगी। यह बात कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अशोक कुमार वर्मा ने मतदान दलों को संबोधित करते हुए कही। 
    जिला निर्वाचन अधिकारी श्री वर्मा ने बुधवार को मतदान दलों के द्वितीय चरण के प्रशिक्षण का जायजा लिया। उन्होंने ईवीएम व वीवीपैट संचालन का वृहद प्रशिक्षण लेने पर विशेष बल दिया। इस अवसर पर अपर कलेक्टर एवं मतदान दल गठन प्रभारी श्री दिनेश श्रीवास्तव उनके साथ थे। 
    जिले में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान दलों को द्वितीय चरण का प्रशिक्षण यहाँ भारतीय यात्रा एवं पर्यटन प्रबंधन संस्थान एवं एलएनआईपीई में दो पालियों में दिया जा रहा है। यह प्रशिक्षण 20 नवम्बर से शुरू हुआ था, जो 23 नवम्बर तक जारी रहेगा। इस चार दिवसीय प्रशिक्षण के जरिए 9 हजार अधिकारी-कर्मचारियों को मतदान सम्पन्न कराने की बारीकियाँ बताई जा रहीं है। द्वितीय चरण के प्रशिक्षण में पीठासीन अधिकारी और मतदान अधिकारी क्रमांक 1,2 व 3 को प्रशिक्षित किया जा रहा है। मतदान अधिकारियों को वीवीपैट सहित ई.व्ही.एम (इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन) के बारे में भी तकनीकी  एवं व्यवहारिक प्रशिक्षण विस्तार से दिया जा रहा है।
    पीठासीन एवं मतदान अधिकारियों को मास्टर ट्रेनर्स ने मतदान मशीन सहित सम्पूर्ण मतदान सामग्री के बारे में उपयोगी जानकारी दी। पीठासीन अधिकारियों को खासतौर पर मतदान केन्द्र की स्थापना, मतदान शुरू होने से पूर्व की जाने वाली घोषणा, एजेन्टो की मौजूदगी में मोकपोल, मतदान मशीन नियंत्रण यूनिट की तैयारी, ग्रीन पेपर सील लगाना, स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के लिए रक्षोपाय, मतदान केन्द्र में और बाहरी 200 मीटर की परिधि में प्रतिबंधात्मक आदेशों के पालन आदि का प्रशिक्षण दिया गया। 
    पीठासीन अधिकारियों को समझाइश दी गई कि वे निर्वाचन सामग्री प्राप्त करते समय यह सुनिश्चित कर लें कि सूची के अनुसार सभी सामग्री प्राप्त कर ली गई है। उन्हें बताया गया मुख्य रूप से मतदान यूनिट, नियंत्रण यूनिट, वीवीपैट, निविदत्त मतपत्र, मतदाताओं का रजिस्टर, निर्वाचक नामावली की चिन्हित प्रति और नामावली की अतिरिक्त प्रतियाँ, ग्रीन पेपर सील, सीलिंग वैक्स एवं अमिट स्याही महत्वपूर्ण सामग्री में शामिल है।
    मतदान अधिकारियों के प्रशिक्षण के समय संबंधित रिटर्निंग अधिकारी, मास्टर ट्रेनर्स (निर्वाचन प्रशिक्षण अधिकारी) सहित मतदान दलो के गठन व प्रशिक्षण से जुड़े अधिकारी मौजूद थे।