भोपाल। राज्य सरकार ने नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष पूर्व मुख्य सचिव राकेश साहनी को पद से हटा दिया है। राकेश साहनी को शिवराज सरकार ने 2015 में एनवीडीए का चेयरमैन बनाया था। इससे पहले वे कई सालों तक विद्युत नियामक आयोग के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।  कांग्रेस सरकार ने आते ही सभी निगम-मंडलों के अध्यक्षों को हटाने के आदेश जारी किए थे। इसके बाद सभी निगम-मंडल के अध्यक्षों को पद से हटा दिया गया था, वहीं कुछ अध्यक्षों ने इस्तीफा दे दिया था। इसके बावजूद राकेश साहनी अपने पद पर बने हुए थे। सूत्रों के मुताबिक साहनी रोज दफ्तर भी आ रहे थे। कांग्रेस सरकार को इसका पता चला था। इसके बाद ये आदेश जारी कर दिए गए।  

राकेश साहनी 1972 बैच के आईएएस अधिकारी रहे हैं। साहनी को जुलाई 2015 में अध्यक्ष बनाया गया था। वे पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सलाहकार भी रह चुके हैं। साहनी को हटाने के आदेश शुक्रवार देर रात जारी किए गए। दरअसल, एनवीडीए के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति राजनीतिक मानी जाती है। हालांकि अब तक इस पद पर अनुभवी नौकरशाहों या तकनीकी विशेषज्ञों को ही बैठाया जाता रहा है।