(मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना)  कोई भी पात्र किसान योजना के लाभ से वंचित न रहे - कलेक्टर  

9 January 2019, mphalchal news

ग्वालियर |  प्रदेश सरकार ने किसानों के लिये मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना लागू की है। इसके तहत फसल के लिये किसी राष्ट्रीयकृत बैंक, सहकारी बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक से लिया गया ऋण माफ किया जायेगा। इसमें ऐसा अल्पकालीन फसल ऋण एक अप्रैल 2007 को अथवा उसके बाद किसी ऋण प्रदाता संस्था से लिया गया है, फसल ऋण जो 31 मार्च 2018 की स्थिति में घोषित ऋण 12 दिसम्बर 2018 तक पूर्णत: अथवा आंशिक रूप से चुका दिया हो, उन्हें भी योजना का लाभ दिया जायेगा। इसके लिये किसानों को लोन लेने वाले बैंक खाते की आधार सीड़िंग होना जरूरी है। इसलिए जिन किसानों के बैंक खाते की आधार सीडिंग नहीं है वे सभी किसान योजना का लाभ लेने के लिये आधार सीडिंग अवश्य कराएं।     बुधवार को कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में आयोजित हुई बैठक में कलेक्टर श्री भरत यादव ने किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग, सहकारिता व बैंक सहित योजना के क्रियान्वयन से जुड़े सभी विभागों के जिला व खण्ड स्तरीय अधिकारियों को क्रियान्वयन निर्धारित समयावधि के भीतर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोई भी पात्र किसान योजना के लाभ से वंचित न रहे। इसलिये ऐसी रणनीति के तहत काम करें जिससे पात्र किसान चिन्हित हो सकें। विशेषकर आधार सीडिंग के लिये सोसायटीवार शेड्यूल बनाकर काम करें।      उन्होंने कहा कि सभी एसडीएम अपने स्तर पर बेहतर निगरानी के लिये नोडल बनाएं। साथ ही किसानों तक जानकारी पहुँचाने के लिये प्रचार-प्रसार के माध्यमों का प्रभावी उपयोग किया जाए। उन्होंने उपसंचालक कृषि को निर्देश दिए हैं कि प्रचार-प्रसार के लिये पोस्टर, पेम्प्लेट्स, होर्डिंग लगवाएं और हैण्डआउट्स का वितरण किया जाए। ग्राम पंचायतो में दीवार लेखन कर लोगों को जानकारी दें। उन्होंने कहा अभी ग्वालियर व्यापार मेले में भी लोगों को जानकारी दी जा सकती है। इसलिये मेले में एक स्टॉल लगाकर किसानों को योजना के संबंध में जानकारी दी जायेगी।  ग्राम पंचायतों एवं नगरीय निकायों में सूची चस्पा करें      बैठक में कलेक्टर श्री भरत यादव ने निर्देश दिए हैं कि योजना के क्रियान्वयन के लिये कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। जिसके तहत 15 जनवरी से किसानों की सूची प्रदर्शित की जायेगी। यह सूची ग्राम पंचायतों, नगरीय निकायों के वार्डों एवं बैंक शाखा में चस्पा की जायेगी। कलेक्टर श्री यादव ने सभी जनपद सीईओ को निर्देश दिए हैं कि समय पर सूची प्रदर्शन का काम होना चाहिए। इसमें आधार सीडेड खाते वाले किसानों के नाम हरे रंग की सूची में जबकि गैर आधार सीडेड नाम सफेद रंग की सूची में रहेंगे। जबकि ऐसे किसान जिनके नाम दोनों सूची में नहीं है और किसान आवेदन करना चाहता है, उसे गुलाबी रंग का फॉर्म भरना होगा।  26 जनवरी को आयोजित होने वाली ग्राम सभाओं में भी सूची का वाचन किया जायेगा।  पात्रता की श्रेणी     योजना का लाभ लेने के लिये ऐसे किसान पात्र होंगे, जिन्होंने अल्पकालीन फसल ऋण प्रदेश में स्थित ऋण प्रदाता संस्था की बैंक शाखा, सहकारी बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक तथा राष्ट्रीयकृत बैंक से ऋण लिया हो, जबकि ऐसे किसानों को शामिल नहीं किया जायेगा, जिन्होंने किसी साहूकार, कंपनियों या अन्य कॉर्पोरेट संस्थाओं, फार्मर प्रोड्यूसर संस्था (FPO) द्वारा तथा सोना गिरवी रखकर फसल ऋण प्राप्त किया हो।  लाभान्वित किसानों को मिलेगा किसान सम्मान पत्र     जिन किसानों द्वारा 31 मार्च 2018 की स्थिति में बकाया ऋण पूर्णत: अथवा आंशिक रूप से 12 दिसम्बर 2018 तक जमा कर दिया गया है। उन्हें योजना में लाभ प्रदान करने के साथ ही किसान सम्मान पत्र से सम्मानित किया जायेगा।